HRTC Conductor Recruitment संबंधी दस्तावेजों में टैंपरिंग करने वाले अफसर नपेंगे

HRTC Conductor Recruitment

HRTC Conductor Recruitment संबंधी दस्तावेजों में टैंपरिंग करने वाले अफसर नपेंगे विवादित कंडक्टर भर्ती मामले में दस्तावेजों से छेड़छाड़ करने वाले अफसरों का नपना अब तय है। शुक्रवार को पूर्व आईएएस अफसर समेत तत्कालीन चार डीएम के हस्ताक्षर नमूने स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम ने जांच के लिए फोरेंसिक लैब जुन्गा भेज दिए हैं। छानबीन के दौरान भर्ती संबंधी दस्तावेजों में गड़बड़ियां पाई गईं।

इसमें किस-किस अफसर ने कटिंग और टैंपरिंग की है, इसका मिलान फोरेंसिक जांच में हो जाएगा। फोरेंसिक जांच से रिपोर्ट आने के बाद संबंधित अफसरों के खिलाफ एसआईटी को पुख्ता सबूत मिलने की पूरी उम्मीद है और इसे मजबूत आधार बनाकर एसआईटी आरोपियों के खिलाफ तैयार की जाने वाली चार्जशीट में शामिल करेगी।

रिलायंस JIO ने फिर किया बड़ा ऐलान, अब इन कस्‍टमर्स को दे दी है राहत

यह है मामला 
24 अक्तूबर, 2003 को निदेशक मंडल की बैठक में कंडक्टरों के 300 पद भरने की मंजूरी दी गई। इसमें सामान्य वर्ग के 166 ओबीसी के 54, एससी के 66 और एसटी के 14 पद भरे जाने थे। इन पदों के लिए प्रदेश भर से 17,890 आवेदन आए। 20 सितंबर 2004 को इन पदों पर 300 की जगह 365 पद भर दिए गए। 12 मई 2005 को 13 और पद भर दिए गए। इससे भर्ती विवादों में आ गई। लंबे समय के बाद 14 मार्च 2017 को पुलिस ने तत्कालीन एमडी और डीएम समेत पांच लोगों को आरोपी बनाकर थाना सदर शिमला में एफआईआर दर्ज की है।

क्या कहती है एसआईटी 
एसआईटी प्रमुख डीएसपी सिटी दिनेश शर्मा ने कहा कि तत्कालीन पांच अफसरों के हस्ताक्षर नमूने शुक्रवार को फोरेंसिक जांच जुन्गा भेजे गए हैं। जांच के दौरान भर्ती संबंधी दस्तावेजों में कटिंग और दूसरी गड़बड़ियां पाई गई हैं। यह किन अफसरों ने की इस बात का खुलासा रिपोर्ट मिलने का बाद हो जाएगा। हर पहलू पर तफ्तीश की जा रही है।

रिलायंस JIO ने फिर किया बड़ा ऐलान, अब इन कस्‍टमर्स को दे दी है राहत

HRTC कंडक्टर भर्ती संबंधी दस्तावेजों में टैंपरिंग करने वाले अफसर नपेंगे
कंडक्टर भर्ती संबंधी दस्तावेजों में टैंपरिंग करने वाले अफसर नपेंगे

Himachal Pradesh Forest guard recruitment 2019

HPSSC will recruit 693 posts Recruitment of conductors

HP GOVT JOB HRTC recruitment 2019 |HRTC recruitment 2019 conductor|HRTC jobs will be filled, 1000 posts of these categories will be filled

free job alert see More

Officers tampering in conductor recruitment related documents

The prosecution of officers who tampered with documents in the controversial conductor recruitment case is now fixed. On Friday, the Special Investigation Team, a signature sample of the then four DMs including the former IAS officer, has sent the forensic lab Junga for examination. During the investigation, errors in recruitment related documents were found.

रिलायंस JIO ने फिर किया बड़ा ऐलान, अब इन कस्‍टमर्स को दे दी है राहत

In this, which officer has done cutting and tampering, it will be matched in forensic investigation. After the report from the forensic investigation, the SIT is expected to get strong evidence against the concerned officers and by making it a strong base, the SIT will include it in the chargesheet to be prepared against the accused.

This is the case
On October 24, 2003, a meeting of the Board of Directors approved the filling of 300 posts of conductors. In this, 54 posts of 166 OBCs, 66 of SCs and 14 posts of STs were to be filled. 17,890 applications were received from all over the state for these posts. On 20 September 2004, 365 posts were filled instead of 300 on these posts. On 12 May 2005, 13 more posts were filled. This led to recruitment disputes. After a long time, on March 14, 2017, the police registered an FIR in the police station Sadar Shimla by making five people, including the then MD and DM, accused.

What does SIT say
SIT chief DSP Siti Dinesh Sharma said that the signature samples of the then five officers have been sent to Forensic Investigation Junga on Friday. During the investigation, cutting and other irregularities have been found in the recruitment documents. Which officers said this will be revealed after receiving the report. Investigation is being done on every aspect.

रिलायंस JIO ने फिर किया बड़ा ऐलान, अब इन कस्‍टमर्स को दे दी है राहत

 

 

 

Share this

Author: HPSSC/HPPSC/HPU