कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बीच हिमाचल प्रदेश में भी दिन-प्रतिदिन मामले बढ़

By | March 23, 2021

कोरोना महामारी की दूसरी लहर

कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बीच हिमाचल प्रदेश में भी दिन-प्रतिदिन मामले बढ़ रहे हैं। सरकार ने कई प्रतिबंध भी लगाए हैं। अब शिक्षा विभाग ने स्कूलों और कॉलेजों में कार्यक्रमों के आयोजन पर भी प्रतिबंध लगा दिया है। उच्च शिक्षा निदेशक डॉ। अमरजीत कुमार शर्मा ने कहा कि अगले आदेश तक कोई कार्यक्रम आयोजित नहीं किया जाएगा।

साथ ही, सरकार ने डॉक्टरों, आशा कार्यकर्ताओं और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को फिर से फील्डिंग करने का फैसला किया है। डॉक्टर पहले की तरह घर पर अलग-थलग पड़े मरीजों की जांच करेंगे। आशा कार्यकर्ता और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता भी मैदान में आएंगे और निगरानी रखेंगे। उपायुक्तों और सीएमओ को भी कोरोना संक्रमित रोगियों के संपर्क इतिहास का पता लगाने के लिए कहा गया है।

स्वास्थ्य सचिव अमिताभ अवस्थी ने कहा कि प्रिंसिपल, सीएमओ, मेडिकल कॉलेजों के बीएमओ को नमूना बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं। हर दिन 8 से 10 हजार सैंपल लिए जाएंगे। मेडिकल कॉलेजों में अभी ओपीडी बंद नहीं होगी। इन कॉलेजों में कोरोना रोगियों के लिए आरक्षित वार्ड होंगे। कांगड़ा, शिमला, नालागढ़ और नेरचौक मेक शिफ्ट अस्पतालों में रोगियों के लिए 200 बेड हैं। इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज (IGMC) के नए ओपीडी भवन का उपयोग कोविद रोगियों के लिए भी किया जाएगा।

सिरमौर, ऊना, कांगड़ा और सोलन जिलों के सीमावर्ती क्षेत्र कोरोना के अधिक मामले देख रहे हैं। ये क्षेत्र पंजाब, हरियाणा से सटे हैं। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग ने इन जिलों में सैंपल बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए 26 से 28 मार्च के बीच ग्रैंडफू, कोकसर में होने वाली सीनियर स्कीइंग और स्नो बोर्ड चैम्पियनशिप प्रतियोगिता को स्थगित कर दिया गया है। हिमाचल प्रदेश विंटर गेम्स एसोसिएशन के अध्यक्ष लुदर ठाकुर ने कहा कि कोविड -19 को लेकर हिमाचल सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों को ध्यान में रखते हुए प्रतियोगिता को स्थगित कर दिया गया है।

हिमाचल में तीन कोरोना संक्रमितों की मौत, 231 नए मामले, वैक्सीन लगवाने के बाद डॉक्टर पॉजिटिव

हिमाचल प्रदेश में, कोरोना ने फिर से एक स्थूल रूप ले लिया है। सोमवार को राज्य में तीन कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मौत हो गई। मृतकों में कांगड़ा जिले का 49 वर्षीय व्यक्ति, ऊना का एक 52 वर्षीय व्यक्ति और मंडी जिले की 45 वर्षीय महिला शामिल है। ऊना जिले के उपमंडल बंगाणा के थानाकलम शहर में मौत के बाद व्यक्ति के कोरोना परीक्षण की रिपोर्ट सकारात्मक आई। इसके अलावा, मृतक ने एक सप्ताह पहले सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कोरोना वैक्सीन भी लगाया था। बताया जा रहा है कि टीका लगाए जाने के बाद से ही व्यक्ति अस्वस्थ था। सोमवार को व्यक्ति को इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र थानाकलां में भर्ती कराया गया। यहां चिकित्सकों ने जांच के बाद उसे मृत घोषित कर दिया। जब मृतक का कोरोना परीक्षण किया गया, तो रिपोर्ट सकारात्मक आई।

दूसरी ओर, राज्य में 231 लोगों के कोरोना परीक्षण की रिपोर्ट सकारात्मक आई है। जिला ऊना, कांगड़ा 41, सोलन 26, सिरमौर 23, बिलासपुर सात, शिमला 11, हमीरपुर 10, कुल्लू तीन और मंडी में 108 नए मामले सामने आए हैं। कांगड़ा जिले में चार छात्रों और एक स्वास्थ्य कार्यकर्ता की रिपोर्ट भी सकारात्मक आई है। ऊना में राधा स्वामी सत्संग ब्यास के कई केंद्रों से 11 लोगों की रिपोर्ट सकारात्मक आई है। पांवटा साहिब के अंतर्गत पुरुवाला तिब्बती स्कूल के सात छात्र भी सकारात्मक आए हैं। सरकार ने हिमाचल में कोरोना मामलों में वृद्धि के लिए सतर्क किया है। जिला ऊना, कांगड़ा, सिरमौर और सोलन के औद्योगिक क्षेत्रों में नमूना बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं। आने वाले दिनों में कोरोना पर काबू पाने के लिए सरकार सख्त फैसला ले सकती है।

उधर, कोरोना की जांच के लिए सोमवार को 4354 लोगों के नमूने लिए गए। इनमें से 3939 रिपोर्ट निगेटिव हैं और 335 सैंपल रिपोर्ट किए जाने हैं। इसके साथ, राज्य के कोरोना शिशुओं का आंकड़ा 60878 तक पहुंच गया है। सक्रिय मामले अब 1385 हैं। अब तक 58466 ठीक हो चुके हैं और 1008 की मौत हो चुकी है। बिलासपुर में सक्रिय कोरोना मामलों की संख्या 78, चंबा पांच, हमीरपुर 70, कांगड़ा 276, किन्नौर सात, लाहौल-स्पीति शून्य, कुल्लू 23, मंडी 54, शिमला 133, सिरमौर 72, सोलन 199 और ऊना जिले में 468 हैं।

हमीरपुर जिले के बडसर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बिझड़ी में तैनात महिला चिकित्सक कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक होने के बावजूद कोरोना सकारात्मक आया है। रविवार को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भोटा में जब कोविद -19 का परीक्षण किया गया तो डॉक्टर ने खांसी, बुखार की शिकायत की। डॉक्टर ने वैक्सीन की दोनों खुराक दी है। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद डॉक्टर होम क्वारेंटाइन में हैं। बीएमओ बडसर नरेश कुमार ने कहा कि डॉक्टर का घर संगरोध में है।

कमला नेहरू अस्पताल में एक कोरोना पॉजिटिव महिला ने एक नवजात को जन्म दिया है। महिला को धामी से यहां रेफर किया गया था। बाल रोग विशेषज्ञों ने बच्चे की स्थिति को देखते हुए IGMC को स्थानांतरित कर दिया है। इसकी पुष्टि केएनएच की वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक डॉ। अंबिका चौहान ने की है।

Official Source